Oxary Magazine
$10 – $15 / Week

Sawan Shivratri 2024

Sawan Shivratri 2024

Table of Contents

Sawan Shivaratri 2024 क्या है ? 

एक ऐसा मौसम जिसमे स्वयं शिव जी देते है दर्शन , और करते है अपने भक्तों का उद्धार।  जी आपने सही समझा , यहाँ बात हो रही है सावन के महीने का , यानि एक ऐसा महीना जिसमे भगवान शिव की आराधना व जलाभिषेक करने से वह जल्दी प्रसन्न होते हैं और सारी मनोकामनाएं भी पुरे करते हैं। तो आज के इस blog में हम जानेगे sawan shivratri 2024 के बारे में और इस महत्व और बाकी चीज़ों के बारे में भी जानेगे। 

 

Read Also: Planet Numbers in Astrology

 

Sawan shivratri 2024 के मुहूर्त के बारे में जाने। 

 

पंचांग के अनुसार sawan shivratri 2024 स साल सावन शिवरात्रि श्रावण (जुलाई-अगस्त) महीने के दौरान चतुर्दशी तिथि (चंद्र पखवाड़े का 14वाँ दिन) को होगी।  यानि इस बार सावन  22 जुलाई, 2024 से शुरू होकर 19 अगस्त, 2024 को खत्म होगी। सावन का महीना बहुत ही पवित्र माना जाता है और भक्त अमावस्या की रात को भगवान शिव के लिए देवी पार्वती द्वारा किए गए व्रतों का सम्मान करने के लिए सावन शिवरात्रि मनाते हैं। 

 

जानिए सावन शिवरात्रि 2024 का तिथि और समय: 

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार सावन शिवरात्रि की शिव पूजा 2 अगस्त, 2024 को होगी।  आइये जानते है सावन के पूजा मुहूर्त और बाकि चीज़ों के बारे में। 

 

 

निशिथ काल पूजा: 12:06 बजे से 12:49 बजे तक

सावन शिवरात्रि चतुर्दशी तिथि प्रारम्भ: 2 अगस्त को दोपहर 3:26 बजे

सावन शिवरात्रि चतुर्दशी तिथि समाप्त: 3 अगस्त को दोपहर 3:50 बजे

प्रथम रात्रि प्रहर पूजा समय – 07:11 PM से 09:49 PM तक

द्वितीय रात्रि प्रहर पूजा समय – 09:49 PM से 12:27 AM, अगस्त 03

तृतीय रात्रि प्रहर पूजा समय – 12:27 AM से 03:06 AM, 03 अगस्त

चतुर्थ रात्रि प्रहर पूजा समय – 03:06 AM से 05:44 AM, अगस्त 03

चतुर्दशी तिथि प्रारम्भ – 02 अगस्त 2024 को दोपहर 03:26 बजे

चतुर्दशी तिथि समाप्त – 03 अगस्त 2024 को दोपहर 03:50 बजे

 

आइये जानते है सोलह सोमवार व्रत की विधि:

 

प्राचीन वैदिक साहित्य में कहा गया है कि भगवान शिव का सम्मान करने वाला सबसे महत्वपूर्ण अनुष्ठान सोलह सोमवार है। ‘सोमवार’ सोमवार है, और ‘सोलह’ सोलह है। इस प्रकार, जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, भगवान शिव के उपासक सोलह सोमवार तक व्रत रखते हैं और निरंतर पूजा करते हैं। कोई भी व्यक्ति उम्र, लिंग या अन्य विशेषताओं की परवाह किए बिना पूजा कर सकता है। सोलह सोमवार व्रत आमतौर पर उन लोगों द्वारा मनाया जाता है जिन्हें वैवाहिक समस्याएं हैं या आदर्श साथी खोजने में परेशानी हो रही है।

 

इस अनुष्ठान को सही ढंग से करने के लिए, व्रत विधि का पालन करना अनिवार्य है। भक्त शिवरात्रि के दिन व्रत रखते हैं, पूरे दिन उपवास करते हैं और फिर अगले दिन केवल भोजन करते हैं। भक्त व्रत के दौरान भगवान शिव से सुरक्षा, आध्यात्मिक विकास और जीवन और मृत्यु के चक्र से मुक्ति की प्रार्थना करते हैं। सोलह सोमवार अनुष्ठान के हिस्से के रूप में लगातार 16 सोमवार तक भगवान शिव पर पूरी आस्था के साथ और पूरी श्रद्धा के साथ उपवास करना चाहिए। यदि आप सोलह सोमवार व्रत करने की योजना बना रहे हैं तो यहाँ पूरी पूजा विधि दी गई है।

 

  • सुबह उठकर पानी में तिल डालकर पवित्र स्नान करें।
  • अपने घर की हवा को साफ करने के लिए चारों ओर थोड़ा गंगाजल छिड़कें।
  • पूजा कक्ष की सजावट में धतूरे के फूल, चंदन, घी का दीपक और अगरबत्ती लगाएं।
  • अपने निजी मंदिर में शिव लिंग की स्थापना करें।
  • सबसे पहले भगवान गणेश की पूजा करें और फिर शिव लिंग का रुद्राभिषेक करें।
  • पंचामृत चढ़ाएं, जो दूध, शहद, घी, चीनी, दही और गंगा जल का मिश्रण है।
  • खुले मन और अटूट भक्ति के साथ सोमवार व्रत कथा पढ़ें, जो सोलह सोमवार का महत्व बताती है।
  • आध्यात्मिक ऊर्जा को आकर्षित करने के लिए दिन में 108 बार ओम नमः शिवाय का उच्चारण करें।
  • मनोकामना पूर्ति के लिए रुद्र मंत्र: ओम नमः भगवते रुद्राय नमः का जाप करें।
  • शाम को घी के दीपक से आरती करके और शिव मूल मंत्र ‘ओम नमः शिवाय’ का जाप करके पूजा का समापन करें ।

 

ऊपर दिए उपायों से आप sawan shivratri 2024 अच्छे से बना सकते हैं। 

 

  Read Also: https://blog.occultscience.in/

 

F.A.Qs: 

Q1. इस  साल sawan shivratri 2024 कब होगा ? 

A. पंचांग के अनुसार sawan shivratri 2024 इस साल सावन शिवरात्रि श्रावण (जुलाई-अगस्त) महीने के दौरान चतुर्दशी तिथि (चंद्र पखवाड़े का 14वाँ दिन) को होगी।  यानि इस बार सावन  22 जुलाई, 2024 से शुरू होकर 19 अगस्त, 2024 को खत्म होगी।

 

Q2. सावन शिवरात्रि का धार्मिक महत्व क्या है?

A. सावन शिवरात्रि का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। इसे भगवान शिव और माता पार्वती के पुनर्मिलन का पर्व माना जाता है। इस दिन शिव भक्त व्रत रखते हैं, मंदिरों में जाकर भगवान शिव की विशेष पूजा-अर्चना करते हैं और शिवलिंग पर जल और बिल्वपत्र अर्पित करते हैं।

 

Q3. सावन शिवरात्रि पर क्या-क्या विधि-विधान करना चाहिए?

A. सावन शिवरात्रि पर भक्तगण प्रातःकाल स्नान करके स्वच्छ वस्त्र धारण करते हैं। इसके बाद शिवलिंग पर गंगा जल, दूध, शहद और बेलपत्र अर्पित करते हैं। व्रतधारी दिन भर निराहार रहकर उपवास करते हैं और रात्रि जागरण कर भगवान शिव की आराधना करते हैं। रात्रि को शिव पुराण का पाठ करना और मंत्र जाप करना शुभ माना जाता है।

 

Related Posts
Category
Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit eiusmod tempor ncididunt ut labore et dolore magna